• Home
  • पर्यटक सावधान, ऋषिकेश में हैं कई खतरनाक गंगा घाट..

पर्यटक सावधान, ऋषिकेश में हैं कई खतरनाक गंगा घाट..

Share Now

पर्यटक सावधान, ऋषिकेश में हैं कई खतरनाक गंगा घाट..

 

 

 

उत्तराखंड: तीर्थनगरी ऋषिकेश के मुनिकीरेती, लक्ष्मणझूला, ऋषिकेश तथा रायवाला थाना क्षेत्र में गंगा के घाटों पर लापरवाही की डुबकी पर्यटकों व श्रद्धालुओं की जान पर भारी पड़ रही है। तीर्थनगरी आने वाले पर्यटक तथा श्रद्धालु अक्सर गंगा के ऐसे घाटों पर स्नान के लिए पहुंच जाते हैं, जो घाट सुरक्षा की दृष्टि से अत्यंत खतरनाक हैं। आपको बता दे कि यहां पानी का ऊपरी बहाव बेहद धीमा प्रतीत होता है, मगर सतह के नीचे बहाव बेहद तेज होता है। कई स्थानों पर घाटों पर गहरी चट्टानें और तेज भंवर हैं, जिन्हें सामान्य रूप से महसूस नहीं किया जा सकता।

जलस्तर में अचानक वृद्धि हो जाती है

कई बार गंगा में टिहरी व श्रीनगर डैम से छोड़े जाने वाले पानी से भी जलस्तर में अचानक वृद्धि हो जाती है और कुछ ही मिनटों में गंगा का घाट दिखने वाला क्षेत्र टापू की शक्ल ले लेता है। गंगा घाटों पर लगातार बढ़ते हादसों को देखते हुए पुलिस और प्रशासन भी खासा चिंतित हैं। कई-कई किलोमीटर तक विस्तार लिए गंगा के घाटों पर पहरेदारी कर पाना संभव नहीं है। पुलिस ने ऐसे घाटों को जाने वाले रास्तों पर चेतावनी बोर्ड भी लगाए हैं। मगर, पर्यटक इनकी अनदेखी कर घाटों तक पहुंच जाते हैं। ऋषिकेश, मुनिकीरेती, लक्ष्मणझूला तथा रायवाला थाना क्षेत्रांतर्गत गंगा घाटों पर लगातार डूबने की घटनाएं सामने आ रही हैं। इनमें से अधिकांश गंगा घाट ऐसे हैं, जो सामान्य रूप से गंगा स्नान के लिए चिह्नित नहीं हैं। ऐसे में प्रशासन के समक्ष अब ऐसे घाटों पर सुरक्षात्मक कदम उठाने की जरूरत है।

बता दे कि मुनिकीरेती और लक्ष्मणझूला थाना क्षेत्र में कुछ पक्के घाट ही स्नान की दृष्टि से सुरक्षित हैं। यहां स्नान के लिए जंजीरें लगी हैं और घाट भी अधिक गहरे नहीं हैं। मगर, इनके अलावा अधिकांश घाट खतरे से भरे हैं, जहां अक्सर प्रतिबंध के बावजूद पर्यटक जाने-अनजाने में पहुंच ही जाते हैं।लक्ष्मणझूला क्षेत्र में मस्तराम बाबा घाट, किरमोला घाट, नाव घाट, बांबे घाट, गोवा बीच, गरूड़ चट्टी, फूल चट्टी घाट जबकि मुनिकीरेती क्षेत्र में नाव घाट, तपोवन, नीम बीच, बह्मपुरी व शिवपुरी जबकि ऋषिकेश के बहत्तर सीढ़ी व साईं घाट तथा रायवाला में हरिपुर क्षेत्र के गंगा घाटों पर अक्सर पर्यटकों के डूबने की घटनाएं सामने आती हैं।