• Home
  • जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने ली स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक..

जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने ली स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक..

Share Now

जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने ली स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक..

 

 

 

 

 

रुद्रप्रयाग। जनपद में डेंगू की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए जिलाधिकारी मयूर दीक्षित की अध्यक्षता में जिला कार्यालय एनआईसी कक्ष में स्वास्थ्य विभाग सहित संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की गई।
बैठक में जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग एवं संबंधित अधिकारियों को डेंगू की रोकथाम व नियंत्रण के लिए आपसी समन्वय के साथ कार्य करने के साथ ही डेंगू के लक्षणों के बारे में आम जनमानस को जागरुक करने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार करने को कहा। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि आफिसों में किसी भी दशा में बरसात का पानी जमा न हो। इसकी बेहतर साफ-सफाई व्यवस्था की जाए।

जिसमें छतों की टंकियों, कूलर, फ्रीज, गमलों की सफाई की व्यवस्था की जाए। नगरों व ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को जागरुक किया जाए, जिसके लिए सभी जनप्रतिनिधियों जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत एवं प्रधानों को उनकी ओर से पत्र प्रेषित करने के निर्देश दिए गए। नगर पालिका एवं नगर पंचायतों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए कहीं भी जलभराव की स्थिति न हो तथा छतों में टंकियों एवं फ्रीज, कूलर, फटे, पुराने टायर आदि की भी सफाई कराएं।

 

नगर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में फाॅगिंग की भी व्यवस्था करें। उन्होंने शिक्षा विभाग को भी निर्देश दिए कि सभी स्कूलों में टंकियों की साफ-सफाई कराई जाए तथा स्कूल के आसपास की झाडियों की सफाई की जाए और छात्र-छात्राओं को ऐसे कपड़े पहनने को कहा जाए, जिससे पूरा शरीर ढका रहे तथा बच्चों को भी डेंगू के संबंध में जागरुक किया जाए।

इसके साथ ही आंगनबाड़ी केंद्रों में भी टंकियों की सफाई करने को कहा। उन्होंने लोनिवि के अधिकारियों को निर्देश दिए कि उनके पास जो भी पुराने वाहन हैं, उनके निस्तारण की कार्यवाही करने के भी निर्देश दिए। जिलाधिकारी नेे मुख्य चिकित्सा अधिकारी को नियमित तौर पर सभी स्वास्थ्य केंद्रों में डेंगू की जांच एवं सैंपलिंग करने के निर्देश दिए। साथ ही प्रतिदिन सैंपलिंग की रिपोर्ट जिला आपदा प्रबंधन कंट्रोल रूम को भी उपलब्ध कराई जाए।

इसके साथ ही उन्होंने निर्देश दिए कि डेंगू की रोकथाम के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं की जाए। इसके लिए पर्याप्त मात्रा में टेस्टिंग किट की व्यवस्था करने को कहा। किसी भी क्षेत्र में डेंगू की पुष्टि होने पर तत्काल उचित कार्यवाही की जाए। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ बीके शुक्ला ने डेंगू की रोकथाम एवं बचाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

 

उन्होंने डेंगू के लक्षण के बारे में बताया कि जिसमें मरीज को तेज बुखार, सिर दर्द, शरीर पर लाल चटके, जी मिचलना, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द, आंखों के पिछले भाग में दर्द होना इसके लक्षण हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी स्वास्थ्य संबंधी जानकारी एवं शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर 104 पर संपर्क किया जा सकता है।

डेंगू के लक्षण होने पर चिकित्सीय सलाह के बिना कोई भी दवा न लें। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नरेश कुमार, परियोजना निदेशक रमेश चंद्र, महाप्रबंधक उद्योग एचसी हटवाल, अधिशासी अभियंता लोनिवि जेएस रावत, सिंचाई पीएस बिष्ट, मुख्य कृषि अधिकारी दीपक पुरोहित, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार, जिला समाज कल्याण अधिकारी सुनीता अरोड़ा, बाल विकास अधिकारी शैली प्रजापति, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी राजेंद्र विराटिया, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका सुशील कुमार कुरील तथा नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी सहित संबंधित अधिकारी, कर्मचारी मौजूद रहे।

 

 

 

 

Leave A Comment