• Home
  • केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर बुकिंग के नाम पर हो रही ठगी..

केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर बुकिंग के नाम पर हो रही ठगी..

Share Now

केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर बुकिंग के नाम पर हो रही ठगी..

उत्तराखंड: केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर बुकिंग के नाम साइबर ठगी तेजी से बढ़नी शुरू हो गई है। साइबर ठग हेली बुकिंग के साथ ही वीवीआईपी दर्शन और स्पेशल पूजा का झांसा देकर लोगों को चूना लगा रहे हैं। जबकि, वीआईपी दर्शन और विशेष पूजा का विकल्प राज्य सरकार ने बंद कर दिया है। केदारनाथ के लिए हेली सर्विस बुकिंग के झांसे में देहरादून और महाराष्ट्र के परिवार से ठगी हो गई। इससे पहले भी इस तरह के कई मामले देशभर में सामने आए हैं।

गुप्तकाशी तक पहुंच रहे पीड़ित..

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह का कहना हैं कि केदारनाथ के लिए चॉपर के नाम पर ठगी की 30 के करीब शिकायतें मिली हैं। अधिकांश पीड़ति गुजरात, कर्नाटक, तमिलनाडु जैसे दूर के राज्यों के हैं। वह गुप्तकाशी तो पहुंच रहे हैं। यहां फर्जी टिकट होने पर उन्हें एफआईआर दर्ज कराने के लिए कहा जा रहा है तो अधिकांश लोग इससे मना कर रहे हैं। उनका कहना हैं कि पुलिस ने अपने स्तर पर तीन लोगों के मुकदमे दर्ज कराए हैं। इनके जरिए ठगों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है।

ठग बोला, वीआईपी दर्शन भी करा देंगे..

साइबर ठग केदारनाथ के लिए हेली सेवा नहीं मिलने और भीड़ में दर्शन के लिए लंबी लाइन का फायदा उठा रहे हैं। गूगल पर केदारनाथ हेली सेवा सर्च करते ही सरकारी वेबसाइट से पहले फर्जी वेबसाइट और उनके फोन नंबर शो हो रहे हैं। साइबर ठग बुकिंग के साथ ही वीआईपी दर्शन और पूजा की बुकिंग का ऑप्शन दे रहे हैं।

उन्होंने वेबसाइट पर सीधे बुकिंग के विकल्प के बजाय वहां फोन नंबर दिए हैं। इन पर संपर्क कर लोग ठगी का शिकार हो रहे हैं। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह का कहना हैं कि केदारनाथ के लिए हेली बुकिंग के नाम पर ठगी बढ़ी है। लोगों को बुकिंग करते वक्त सचेत रहने की जरूरत है। बुकिंग के लिए सरकारी साइट https://heliservices. uk.gov.in है। हालांकि, इस साइट पर बुकिंग खुलते ही टिकट बुक हो जा रहे हैं।

इसका फायदा साइबर ठग उठा रहे हैं। वह फर्जी साइट बनाकर उनके जरिए लोगों को चूना को चूना लगा रहे हैं। इनकी साइट सर्च में पहले आए, इसलिए यह गूगल को भुगतान भी करते हैं। जिस साइट पर मोबाइल संपर्क कराया जा रहा हो, या खाते में रकम जमा करने के लिए कहा जाए तो लोग समझ जाएं, यह साइबर ठगों की है।

 

Leave A Comment